Friday, August 31, 2007

जीतते जीतते हार गये !! !!



अरे कल का मैच तो मैंने पूरा देखा...और सुबह सुबह तैयार होकर ऑफ़िस भी आ गया.. कुछ भी कहे ये टीम इंडिया के लिये तो बुरा ही था.. पर एक अच्छा खेल देखने को मिला, मैच अभी शुरू भी नही हुआ था साथियों के एस.एम एस पे एस.एम.एस आते रहे..क्या था उन एस एम एस में चलिये इस एस एम एस की कुछ कड़िया जोड़ने की कोशिश करता हूं..हम भारतीय जीत के प्रति कितने लालाइत रहते हैं ये आपको इन एस एम एस संदेश से पता लगेगा....

* भाई टॉस जीत गये हैं अब ये मैच भी अपने हाथ है.

* जीतना है.

* जीत अपनी सुनिश्चित है

* देखा सचिन को ,५० लगाते ही ठंडे

* अरे ये क्या कार्तिक को भेज दिया?

*लग रहा है लो स्कोरिंग मैच है.

* अरे सब आउट होते जा रहे हैं सबकी चर्बी बढ गई है.

* अरे ये साले खिलाड़ी नही है स्टार हैं.

* बड़ा कम स्कोर बना है अब बॉलर ही कुछ कर सकता है..

* इंगलैण्ड ये मैच बचा नही पायेगा अपना ज़हीर फ़ॉर्म में है.

* स्पिनर तो अभी बाकी हैं ये मैच अपना है..

*अरे ये आगरकर को भी विकेट मिल गया

* जब गला फ़ंसता है तभी विकेट लेता है...

* ए भाई इस पवरवा का बाल बहुत बढ गया है इसे कटवाओ भाई

*अब तो मैच हाथ में है आज सोईयेगा नहीं

* गुरु नींद आ रही है

*सोना मत कुछ भी करो पर जगते रहो

* देखना कुछ तो चमत्कार ज़रुर होगा.

* अब बॉलिंग में मज़ा नही आ रहा

* ये रवि बोपारा अगर आउट हो गया तो समझिये मैच हमारी झोली में है..

*ये साला स्टुअर्ट ब्रॉड भी साला जमा हुआ है अब लगता है अब जीत मुश्किल है
* दोनों दिमाग से खेल रहे हैं.

* अरे इनको कोई आउट नही कर पा रहा अब हम सोने जा रहे हैं

* भाई एक बात तय करके मैं तो सो जाउंगा..कि अब से ये क्रिकेट सिरकेट देखना बन्द. फ़ुट्बॉल इससे अच्छा है कम से कम ९० मिनट में खत्म तो हो जाता है.

* भाई आपको भारत की हार मुबारक, मैं तो सोने जा रहा हूं.. वैसे भी मैं हार देख नहीं सकता..

*ये साला द्रविड़ बेहूदा कप्तान है...

* ल्ल्ल्ल्ल्ल गई भैंस पानी मॆं

* चलो सो जाते हैं साले रात खराब कर दिये.

भाई क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो वाकई खेल भावना से देखो तो मज़ा है, नही तो सज़ा , तो भाई खेल देखो और खेल की धार देखो... .....ये ज़रूर है कि यहां खेल से बड़ा खिलाड़ी होता जा रहा है जो चिन्ता की बात है.. हां अगर कोई और खेल हो दिल लगाने का तो अवश्य बताएं.. अंगरेज़ों का खेल कह कर भागिये नहीं.....!!!!!!

7 comments:

ajai said...

Ye to ek khel hai mere dost.haarna -jeetna laga rahega.munh mat fulaye,khel ka maza lijiye.dil tootne ka dar hai to dekhna chhod dijiye.mai to kahunga ki-
dekhna hai khel dekho,dekho khel ki dhaar.
jeet mile ya haar mile,tu dil par mat le yaar.

उम्दा सोच said...

विमल जी आप की चिन्ता जायज़ है!खेल से बडे खिलाडी ,और खिलाडी नही स्टार हैं इस शब्द से भिगो के पनहि जडी हैं! क्रिशिमन्त्री के पास खाद ही नही है क्रिकेटर उगाने का, हार के बारे में उनसे पूछो तो अपना टेढा मू और टेढा कर देते है --- यूँ :-९

अभय तिवारी said...

कमाल की रनिंग कमेंटरी दी भाई आपने..

बोधिसत्व said...

सर अच्छी बात कही। पर क्रिकेट में या जिंदगी में यह तो लगा ही रहता है।कल का खेल बुरा था।

neeshoo said...

ji vimal ji aap apna samay kahin aur kisi khel per lagayenge toh samay bhi bachega aur maja bhi aayega . kyonki ye log kab kya kar jayenge kuch pata nahi hai. la gya toh tir nahi toh thukka.

mayank said...

विमल जी आप को क्रिकेट के आगे कुछ दिखाई नही देता है क्या फुटबाल में एक जीत हुई है साथी
उधर भी ध्यान दीजिए

अनूप शुक्ला said...

बढ़िया रनिंग कमेंट्री है।