Friday, April 4, 2008

कहीं जनाब को मेरा तो इंतज़ार नहीं?


12 comments:

आशीष said...

बहुत खूब

Pratyaksha said...

इसकी शक्ल किसी से मिलती है ..

अरुण said...

aap to aise naa the..:)

उम्दा सोच said...

विमल भाई कौन है ये,किसकी तस्वीर लगा दी? कमिश्नर साहब या उनका कुत्ता ? अरे!... ये कहीं अमुक खबरी की तस्वीर तो नही?

yunus said...

अरे अरे विमल भाई इसे तो हमने कल परसों मुंबई की सड़कों पर भटकते देखा था ।

ajai said...

बैठा हुवा है तनहा
आरजू-ऐ-दिल सजाकर!
मुमकिन है इसी रस्ते
कोई चैनल वाला गुजरे

मीत said...

छा गए सर.

Parul said...

ye aankhey ..kaisii sii to hain...

अनूप शुक्ल said...

शानदार!

सुजाता said...

उफ ! मैं तो डर गयी थी जी !ऐसी शक्लें कभी कभी दिख नहीं जातीं आस पास ? क्या कल्पना है............

सागर नाहर said...

कुत्ते का इतना घोर अपमान!!!

Udan Tashtari said...

इस बंदे से कहीं न कहीं जरुर मिला हूँ..क्या पता कहाँ..किसी मीट शीट में तो नहीं?? :)