Tuesday, December 29, 2009

डा: कुमार विश्वास की एक रचना, कवि सम्मलेन को याद करते हुए......

क्या कवि सम्मेलनों का दौर ख़त्म होता जा रहा है, एक समय था जब छोटे छोटे शहरों में कवि सम्मेलनों और मुशायरों की वजह से शहर में चहल  पहल खूब हुआ करता  था, वाह वाह और  मुक़र्रर का  शोर  आज भी कानों में ज्यों का त्यों अपनी जगह बनाए हुए है...... पर आज उस  समा को हम सिर्फ  महसूस ही कर सकते हैं |
 लगभग दसियों साल से सब कुछ समाप्त होता दिखाई दे  रहा है तो आज  उन्हीं पुराने दिनों कों याद करते हुए कवि डा: कुमार विश्वास जी   की रचना उन्हीं की आवाज़ में सुनिए और आनंद लीजिये, इस रचना को मित्र ज्योतिन ने उपलब्ध कराया है उनका शुक्रिया और भी इस तरह की रचनाएँ अगर मुझे मिलती है तो ठुमरी के माध्यम से आप तक ज़रूर पहुंचाया जाएगा इसकी गारंटी मैं लेता हूँ ...........नए साल में फिर कुछ इसी तरह मुलाक़ात होगी |


समीर भाई आप सुन नहीं पा रहे इसलिये नीचे वाले प्लेयर पर चटका लगा कर अब सुन सकते हैं ....वैसे मैं ऊपर वाले प्लेयर को सुन पा रहा हूँ....

तुम बिल्कुल हम जैसे निकले - फ़हमिदा रियाज़

तुम बिल्कुल हम जैसे निकले अब तक कहां छुपे थे भाई? वह मूरखता, वह घामड़पन जिसमें हमने सदी गंवाई आखिर पहुंची द्वार तुम्हारे अरे बधाई, बहुत ब...