Monday, December 31, 2007

जैसा मेरा गुज़रे, वैसा ही आपका भी गुज़रे॥ नया साल !!

नया साल मुबारक !!! जैसा मेरा गुज़रे वैसा ही आपका गुज़रे!! क्यो क्या सही नहीं है? क्यों भला? इस तरह के शुभकामनाओं से कुछ अच्छा संदेश नहीं जाता !! पर मैंने कहा लेकिन इसमें किसी को एतराज क्यों है, हर कोई एक दूसरे की मंगल कामना करते नज़र आ रहे है तो उनकी ही बात मैं कुछ अलग अंदाज़ से कहने की कोशिश कर रहा था अगर आपको अटपटा लगा तो वापस लेता हूं, खैर ये सब तो मैं ऐसे ही छोड़ रहा था, फिर भी मेरे कहने से आपका अगला साल मंगलमय हो सकता है तो मेरी भी बलैया ले लिजिये, हो सकता है आपका बिगड़ा काम बन जाय ।



ठुमरी पर आने जाने वाले हीत- मीत को ......... नव वर्ष की शुभकामनाएं ! ! !

दो पसन्दीदा गीत है मेरे, आज सुनियेगा दोनो किशोरदा ने गायें हैं, सुनने के बाद प्रतिक्रिया अवश्य दें

पहला गीत "आ चल के तुझे .........


और ये गीत सवेरे का सूरज तुम्हारे लिये है..

17 comments:

parul k said...

VIMAL JI ,nav varsh ki bahut shubhkaamnaye aapko bhi.....

और ये गीत सवेरे का सूरज तुम्हारे लिये है..
sun ney me asamarth rahi....

vimal verma said...

पारुलजी आपको भी नववर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं!! अब मैने ठीक से चढा दिया अब सुन सकती हैं ,असुविधा के लिये खेद है !!

parul k said...

wah!shukriya vimal ji ....bol dekh kar lagaa thaa ki kahin suna zaruur hai.....naayaab geet hai...aabhaar

Pratyaksha said...

नये साल में सब कुछ नई उर्जा से करें ऐसी कामना है । नये गीत भी सुनाते रहें ।

Rajesh Joshi said...

भई, अद्भुत कर्म. आपने आबिदा परवीन जी से बाजूबंद... सुनवा कर अगले साल की तमाम शुभकामनाएँ एक झटके में लपेट लीं.

बहुत सुंदर. बहुत, बहुत सुंदर.

महेंद्र मिश्रा said...

बहुत बढ़िया. नववर्ष की आपको ढेरो शुभकामना

Divine India said...

आपको नववर्ष की ढ़ेरों बधाइयाँ…।

Aflatoon said...

हमारा साल एक - सा गुजरे । सप्रेम, अफ़लातून.

yunus said...

जय हो । मजेदार है जी । कल हम रेडियोवाणी पर नये साल की आपकी सुबह को मजेदार बना देंगे । विमल जी । हां रशीद खां साहब वाले गाने लेने हम कभी भी टपक सकते हैं आपके पास । मुबारक हो नया साल । नये साल में आप हमें और भी ठुमकाएं, आप भी ठुमकें । मंगलकामनाएं

munish said...

marhaba.. qurbaan !! oye kya kamaal karti.... oi qattal karti...oi koorbaan.. imaan se!!

अजित वडनेरकर said...

निर्मल जी, सुबह से आपकी याद आ रही है । क्यों नहीं जानता। बिना मिले ये हाल है। खतोकिताबत भी कुछ खास नहीं। नए साल में इस संकेत से क्या आसार बनते है हुजूर....
जो होगा, अच्छा होगा
मंगलमय हो नया साल....

इरफ़ान said...

नए साल में आप और भी अधिक ऊर्जा और कल्पनाशीलता के साथ ब्लॉगलेखन में जुटें, शुभकामनाएँ.

www.tooteehueebikhreehuee.blogspot.com
ramrotiaaloo@gmail.com

vinita said...

उम्मीद और उमंगो से भरे गानों के साथ जिसका नया साल शुरु हो रहा है क्यों न जैसा उसका गुज़रे वैसा ही मेरा गुज़रे.....

नये साल की ढेरो बधाइयां!

सागर नाहर said...

नये साल के सवेरे का सूरज आपके लिये भी नई खुशियां ले कर आये एसी उम्मीद करते हैं।

Manish said...

Naye varsh ki hardik shubhkaamnayein Vimal ji.. mera to naya saal train ke dibbe mein beeta:) parson hi Keral se lauta hoon. Kishor ke in geeton ko sunnane ke liye aabhaar

आदिविद्रोही said...

http://aadividrohi.blogspot.com/


ise bhi dekhte rahiye.

विकास कुमार said...

नया साल मुबारक